Kamdhenu Dairy Yojana 2024 | कामधेनु डेयरी योजना 2024


Notice: Undefined index: titleWrapper in /home/u837204697/domains/deshyojana.com/public_html/wp-content/plugins/seo-by-rank-math/includes/modules/schema/blocks/toc/class-block-toc.php on line 103

Table of Contents


Introduction of Kamdhenu Dairy Yojana 2024 | कामधेनु डेयरी योजना 2024 का परिचय

राजस्थान कामधेनु डेयरी योजना (Kamdhenu Dairy Yojana )राजस्थान सरकार द्वारा पशुपालकों और किसानों की आय को बढ़ाने के लिए आरंभ की गई है। इस योजना के तहत योग्य लाभार्थियों को बैंकों के माध्यम से ऋण प्रदान किया जाएगा ताकि राज्य में रोजगार के अवसरों को बढ़ाया जा सके। लाभार्थियों को अपनी डेयरी खोलने के लिए ऋण का उपयोग कर सकते हैं।

कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के तहत बैंकों से लिए गए ऋण का समय पर चुकाने पर, लाभार्थियों को सरकार द्वारा 30% की सब्सिडी प्राप्त होगी। इस योजना का उद्देश्य डेयरी फार्मिंग को प्रोत्साहित करके राजस्थान में रोजगार के अवसरों को बढ़ाना है।

राजस्थान कामधेनु डेयरी योजना में देशी गाय पालकों को डेयरी चलाने के लिए कुल लागत का 90% तक का ऋण प्रदान किया जाएगा, और लोन का समय पर चुका देने पर सरकार द्वारा 30% की सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान में एक इकाई स्थापित करने की अनुमानित लागत लगभग 36.67 लाख रुपये है। इसमें से सरकार को कुल व्यय का 30% उत्तरदायित्व होगा, जबकि 60% धनराशि बैंकों द्वारा ऋण के रूप में प्रदान की जाएगी। लाभार्थियों को केवल 10% का योगदान देना होगा।

कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के माध्यम से पशुपालकों और किसानों को स्वायत्तता प्राप्त करने का अवसर मिलेगा।


Objective of Rajasthan Kamdhenu Dairy Yojana | राजस्थान कामधेनु डेयरी योजना का उद्देश्य

राजस्थान कामधेनु डेयरी योजना का मुख्य उद्देश्य राजस्थान सरकार द्वारा देसी गाय के दूध को बढ़ावा देना है और रोजगार के अवसर प्रदान करना है। इस योजना के तहत, सरकार द्वारा लोन पर 30% सब्सिडी प्रदान की जाएगी। गाय का दूध स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है, लेकिन पिछले कई वर्षों से गाय के दूध में मिलावट बढ़ गई है। इसीलिए, देसी गाय के दूध को बढ़ावा देने के उद्देश्य से सरकार द्वारा यह योजना शुरू की गई है। इससे पशुपालकों और डेयरी चलाने वाले किसानों को लाभ प्राप्त होगा और वे आत्मनिर्भर बन सकेंगे। इसके माध्यम से आर्थिक स्थिति मजबूत होगी और राज्य का विकास होगा।


Subsidy under Kamdhenu Dairy Scheme Rajasthan | कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के तहत सब्सिडी

राजस्थान कामधेनु डेयरी योजना के तहत सब्सिडी प्राप्त करने के लिए किसी भी किसान या पशुपालक आवेदन कर सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत, लाभार्थियों को 25 दुधारू गाय पालने के लिए सरकार द्वारा 3% ब्याज दर पर कुल खर्च का 85% प्रदान किया जाएगा। शेष 15% धनराशि का भुगतान लाभार्थी को खुद करना होगा। लोन की सही समय पर भुगतान करने पर आवेदक को सरकार द्वारा 35% की सब्सिडी भी प्रदान की जाएगी।


Beneficiaries of Kamdhenu Dairy Yojana Rajasthan | कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के लाभार्थी

  1. पशुपालक: योजना के अंतर्गत, पशुपालक गाय पालकों को गाय पालन के लिए ऋण और सब्सिडी प्राप्त करने का लाभ मिल सकता है।
  2. बेरोजगार युवा: योजना बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान कर सकती है, जिन्हें डेयरी उत्पादन के क्षेत्र में काम करने का अवसर मिलेगा।
  3. किसान: योजना के तहत किसानों को गाय पालन के लिए आर्थिक सहायता प्राप्त करने का मौका मिल सकता है। इससे उनकी आय बढ़ सकती है और वे अपने किसानी और पशुपालन कार्यों को बढ़ा सकते हैं।
  4. महिलाएं: योजना के तहत महिलाओं को भी गाय पालन के क्षेत्र में आर्थिक सहायता प्राप्त करने का अवसर मिल सकता है, जिससे उनकी सामाजिक और आर्थिक स्थिति मजबूत हो सकती है।

Guidelines for Kamdhenu Dairy Yojana Rajasthan | कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के लिए दिशानिर्देश

  1. पर्याप्त भूमि: डेयरी खोलने के लिए आवेदक के पास कम से कम 1 एकड़ भूमि होनी चाहिए जिसमें हरा चारा उत्पादन किया जा सकता है।
  2. प्रोजेक्ट की लागत: आवेदक को एक प्रोजेक्ट बनाना होगा, जिसकी लागत 36 लाख रुपए से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  3. आवेदन शुल्क: योजना के तहत किसान को केवल लागत का 10% भुगतान करना होगा।
  4. पालनी जानवर की शर्तें: आवेदक के पास देसी नस्ल की गाय होनी चाहिए, जिनकी उम्र 5 वर्ष या दो बीयांत की हो। उनकी दैनिक दूध उत्पादन कम से कम 10 से 12 लीटर होनी चाहिए।
  5. गायों की संख्या: गाय या भैंस रखने की सुविधा की अधिकतम संख्या 30 है।
  6. गोवंश की खरीद: एक बार में 15 गोवंश और 6 महीने बाद फिर 15 देसी गाय खरीदनी होगी।
  7. अनुभव: इस क्षेत्र में लाभार्थी को कम से कम 3 वर्ष का अनुभव होना चाहिए।

Benefits of Kamdhenu Dairy Yojana Rajasthan | कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के लाभ

  1. रोजगार: योजना के माध्यम से नागरिकों को रोजगार के अवसर मिलेंगे, जिससे उन्हें आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।
  2. पशुपालन को बढ़ावा: योजना के तहत देसी गाय पशुपालकों को डेयरी चलाने के लिए वित्तीय सहायता प्राप्त होगी, जो पशुपालन के क्षेत्र में विकास का संकेत होगा।
  3. सब्सिडी: लोन पर समय पर भुगतान करने पर लाभार्थी को सरकार द्वारा 30% की सब्सिडी भी प्राप्त होगी, जिससे उन्हें आर्थिक सहायता मिलेगी।
  4. दूध की उत्पादन और गुणवत्ता: योजना के माध्यम से लोगों को अच्छी गुणवत्ता का दूध उत्पादित करने का मौका मिलेगा, जो स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी होगा।
  5. युवा वर्ग और महिलाओं का लाभ: योजना से युवा वर्ग और महिलाएं भी आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त होंगी और आत्मनिर्भरता का मार्ग मिलेगा।
  6. शिक्षा: पशुपालकों को अच्छे से शिक्षित किया जाएगा, जिससे उनका काम और उत्पादन भी बेहतर होगा।

Eligibility for Kamdhenu Dairy Scheme Rajasthan | कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के लिए पात्रता

  1. राजस्थान का स्थाई निवासी: योजना के लिए आवेदक को राजस्थान का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  2. आयु सीमा: आवेदक की आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  3. भूमि की आवश्यकता: योजना के लिए आवेदक के पास कम से कम 1 एकड़ भूमि होनी चाहिए, जिस पर डेयरी स्थापित की जा सकती है।

Kamdhenu Mandir Yojana Rajasthan Required Documents | कामधेनु मंदिर योजना राजस्थान आवश्यक दस्तावेज

  1. आधार कार्ड: आवेदक का आधार कार्ड जरूरी होता है।
  2. स्थाई प्रमाण पत्र: आवेदक का स्थाई प्रमाण पत्र, जैसे निवास प्रमाण पत्र, वालिद पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस आदि।
  3. जमीनी दस्तावेज: आवेदक के पास जमीन के संपत्ति से संबंधित दस्तावेज, जैसे खतौनी, जमाबंदी, खेत का पंजीयन पत्र आदि।
  4. पासपोर्ट साइज फोटो: आवेदक का पासपोर्ट साइज की तस्वीर।
  5. बैंक खाता विवरण: आवेदक का बैंक खाता विवरण, जैसे खाता संख्या, बैंक का नाम, ब्रांच का पता आदि।
  6. मोबाइल नंबर: आवेदक का मोबाइल नंबर जो उनके साथ संपर्क करने के लिए उपयोगी हो।
  7. पशुपालक होने का प्रमाण: यदि आवेदक पशुपालक है, तो पशुपालन से संबंधित किसी भी प्रमाण पत्र की प्रतियोगिता आवश्यक हो सकती है।

How to apply under Kamdhenu Dairy Yojana Rajasthan |कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के तहत आवेदन कैसे करें

  1. आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं: सबसे पहले, आपको राजस्थान सरकार के गोपालन की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  2. योजना के लिंक पर क्लिक करें: वहां पहुँचकर, आपको राजस्थान कामधेनु डेयरी योजना के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  3. आवेदन फॉर्म डाउनलोड करें: आवेदन फॉर्म PDF फॉर्मेट में उपलब्ध होगा, जिसे आपको डाउनलोड करके प्रिंट करना होगा।
  4. जानकारी भरें: आवेदन फॉर्म में पूछी गई सभी आवश्यक जानकारी को ध्यानपूर्वक भरें।
  5. आवश्यक दस्तावेजों को संलग्न करें: आवेदन फॉर्म के साथ आपको मांगे गए सभी आवश्यक दस्तावेजों को संलग्न करें।
  6. आवेदन जमा करें: अब, आपको आवेदन फॉर्म को योजना संबंधित कार्यालय में जमा करना होगा।
  7. सत्यापन: सरकार द्वारा आपके आवेदन को सत्यापित किया जाएगा।
  8. लोन की प्रदान: आपको कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान के माध्यम से लोन प्रदान किया जाएगा।

Kamdhenu Dairy Yojana Rajasthan pdf | कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान पीडीएफ | Kamdhenu Dairy Yojana Rajasthan form


Frequently asked Questions

Kamdhenu Dairy Yojana Rajasthan क्या है?

कामधेनु डेयरी योजना राजस्थान एक सरकारी योजना है जो डेयरी फार्मिंग को बढ़ावा देने और डेयरी किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई है।

कौन इस योजना के लिए आवेदन कर सकता है?

पात्रता मानदंड आमतौर पर राजस्थान के निवासियों, डेयरी फार्म स्थापित करने के लिए आवश्यक भूमि रखने वालों और योजना द्वारा निर्धारित आय सीमाओं को पूरा करने वालों को शामिल करते हैं।

कामधेनु डेयरी योजना के क्या लाभ हैं?

योजना आमतौर पर डेयरी फार्मिंग के लिए लोन पर वित्तीय सहायता और सब्सिडी प्रदान करती है, जिससे रोजगार उत्पन्न होता है और डेयरी उत्पादन में सुधार होता है।

मैं कामधेनु डेयरी योजना के लिए कैसे आवेदन कर सकता हूँ?

आवेदक आमतौर पर राजस्थान सरकार के पशुपालन और डेयरी विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। वहां से आवेदन फॉर्म डाउनलोड किया जा सकता है और उसे भरकर संलग्न आवश्यक दस्तावेजों के साथ संस्थानिक आवेदन प्रस्तुत किया जा सकता है।

आवेदन के लिए कौन-कौन से दस्तावेज आवश्यक हैं?

सामान्यत: आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेजों में आधार कार्ड, निवास प्रमाण पत्र, भूमि के स्वामित्व के दस्तावेज, पासपोर्ट आकार की फोटो, बैंक खाता विवरण, और पशुपालन में लगे होने का प्रमाण शामिल होते हैं।

क्या इस योजना के तहत कोई सब्सिडी उपलब्ध है?

हां, योजना अक्सर डेयरी फार्मिंग के लिए लिए गए ऋणों पर सब्सिडी प्रदान करती है, साथ ही अन्य वित्तीय प्रोत्साहन भी देती है जैसे समय पर चुकाने और परियोजना को सफलतापूर्वक प्रदर्शित करने पर।

सरकार बेनेफिशियरी को कैसे समर्थन करती है?

सरकार बेनेफिशियरी को वित्तीय सहायता, तकनीकी मार्गदर्शन, प्रशिक्षण कार्यक्रम, और पशु चिकित्सा सेवाओं का समर्थन कर सकती है।

क्या यह योजना ग्रामीण विकास में कैसे सहायक है?

डेयरी फार्मिंग को बढ़ावा देने के द्वारा, यह योजना ग्रामीण रोजगार सृजन, आर्थिक विकास, और राजस्थान के ग्रामीण समुदायों में आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देती है।

क्या किसी प्रश्न के लिए हेल्पलाइन नंबर उपलब्ध है?

हां, आवेदकों को अक्सर योजना से संबंधित किसी भी प्रश्न के लिए पशुपालन और डेयरी विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर हेल्पलाइन नंबर या संपर्क जानकारी मिल सकती है।

Leave a comment